देखिए विडियो कैसे रोशन को बोरवेल से बाहर निकाला गया, सेना का एक हवलदार भगवान बन कर आया और मिनटों में काम कर गया

देखिये एक्सक्लूसिव विडियो में ख़ुशी के पल

देवास। 35 घंटे से भी अधिक समय से बोरवेल में फंसे 4 वर्षीय रोशन के लिए सेना का एक हवालदार भगवान बन कर आया और मिनटों में उसने बच्चे को बाहर निकाल दिया।
देखें विडियो

जिला मुख्यालय से लगभग 125 किलोमीटर दूरी पर स्थित ग्राम कंजीपुरा थाना खातेगांव निवासी रोशन पिता भीमसिंह कोरकू उम्र 4 साल पड़ोसी ग्राम उमरिया निवासी हीरालाल जाट के खेत मे बने ट्यूबवेल के गडढे में 10 मार्च को लगभग 11 बजे गिर गया था। बोर की गहराई लगभग 100 फीट थी किन्तु ऊपरी हिस्से में 9 इंच और 35 फ़ीट के बाद 6 इंच चौड़ा था। बच्चा गिरने के बाद इसी 6 इंच के मुहाने पर फंसा रहा।  पिता के कहे अनुसार दूध, पानी पिया और जब बचाव दल ने ऊपर से निकालने के विकल्प पर काम किया तो दोनों हाथों से रस्सी के फंदे को अपने हाथों पर फंसा लिया और हंसते हंसते बाहर आ गया।

दो दिन पहले भीमसिंह कोरकू और पत्नी रेखा तीन बच्चों नैतिक, रोशन व चेतन को लेकर मजदूरी करने उमरिया स्थित खेत पर गए थे। वहां दंपती चने बीनने लगे और बच्चे पास ही खेल रहे थे। बच्चे करीब 11 बजे खेलते हुए पास ही हीरालाल जाट के खेत पर पहुंच गए। बच्‍चा गिरने की सूचना पर प्रशासन और पुलिस का अमला सक्रिय हुआ और अभियान शुरू किया। सेना की टीम भी इस ऑपरेशन में शामिल हो गई थी। तीन पोकलेन मशीन और एक जेसीबी की मदद से खुदाई की गई। बीच में चट्टान आने की वजह से रेक्स्यू ऑपरेशन में रुकावट आई। बच्चे तक पहुंचने के लिए सुरंग बनाई गई। इसके बाद उसे रस्‍सी के सहारे बाहर निकाल लिया गया। रविवार सुबह उसे फिर पाइप के जरिए दूध दिया गया। इस दौरान बच्‍चे की हलचल पर पूरी नजर रखी गई। अब रोशन पूरी तरह स्वस्थ है और खातेगांव में उसका इलाज किया जा रहा है।

जिला प्रशासन, पुलिस बल और आला अधिकारी दिन रात एक कर रेस्क्यू ऑपरेशन कर रहे थे। सफलता मिलते ही भावुकता मिश्रित ख़ुशी का माहौल देखा गया।

 

kvk ad sep 2018
error: Alert: मेहनत करें कॉपी नहीं