वीडियो न्यूज़: महाराज तुकोजीराव पवार की प्रतिमा का अनावरण केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर द्वारा संपन्न

प्रतिमा अनावरण के लिए नगर निगम ने आयोजन किया

देवास। म.प्र. में निरंतर विकास की धारा बहने से देश में राज्य विकासशील राज्यों की श्रेणी में अग्रणी है। श्रीमंत तुकोजीराव पवार ने देवास के विकास को लेकर जिन परियोजनाओ को बीजारोपित किया है उन्हें पूर्ण कर हम उनकी स्मृतियों को चिर स्थाई बना सकते हैं। महाराज राज परिवार से होने के बावजूद उनका व्यक्तित्व अभिमान रहित था। वे आमजनों के हितों हेतु संघर्षशील रहते थे। उक्त उद्गार भारत सरकार के ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री नरेन्द्रसिंह तोमर ने देवास के पूर्व विधायक, प्रदेश के मंत्री स्व.श्रीमंत तुकोजीराव पवार की स्थानीय सयाजी द्वार पर स्थापित की गई आदमकद प्रतिमा के अनावरण के पश्चात आयोजित एक गरिमामय कार्यक्रम में व्यक्त किए। उन्होंने म.प्र. सरकार द्वारा सड़कों, एग्रीकल्चर, किसानों के हितों, निर्धन वर्ग की जनकल्याणकारी योजनाओं, मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, मेघावी छात्र योजना, मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना एवं अन्य जनहित की योजनाओं के क्रियान्वयनो ंसे देश में मध्यप्रदेश विकासशील राज्यों की श्रेणी में अग्रभाग में खड़ा है। हम मध्यप्रदेश को स्वर्णिम प्रदेश बनाएंगे।

कार्यक्रम में उन्होंने महाराज तुकोजीराव पवार के आम जनों के संघर्षो की स्मृतियों का स्मरण करते हुए कहा कि जो लोकतंत्र की लकीर उन्होंने खींची थी उसे विधायक श्रीमंत गायत्री राजे पवार एवं वर्तमान महाराज विक्रमसिंह पवार जिम्मेदारी पूर्वक आगे बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति में विनम्रता सेवा, एवं समर्पण ही एक मात्र मूल मंत्र है। इसी से हम लोगों के दिलों में अपनी अमिट छाप छोड सकते हैं।

कार्यक्रम में प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री दीपक जोशी ने कहा कि श्रीमंत तुकोजीराव पवार ने देवास के विकास को ऊचाईयां दी, मालवांचल में संघर्ष कर संगठन को सशक्त बनाने के साथ ही युवाओ के लिये पोलेटेक्निक, साईंस कालेज की सौगातें युवाओं की प्रगति हेतु दी गई। जनता के कामों को लेकर संघर्ष करने की उनकी अपनी अलग ही शैली थी। कार्यक्रम में सांसद एवं प्रदेश महामंत्री अजयप्रतापसिंह ने भी महाराज की स्मृतियों का स्मरण किया।

कार्यक्रम में विधायक गायत्री राजे पवार ने भाव विभोर होकर कहा कि मेरे लिये आज का दिन आत्मिक खुशी का है। महाराज से शहर के लोगों के प्रेम, स्नेह, समर्पण को देखकर महसूस कर रही हूं कि जनता से उनका आत्मीय बंधन था।

https://rebrand.ly/whats830a0

error: Alert: मेहनत करें कॉपी नहीं