नगर निगम में बंदरबांट? तीन माह पहले सड़क बन चुकी और टेण्डर अब जारी हुए, मुख्यमंत्री से की गई शिकायत

नवनिर्मित सड़क का टेण्डर जारी होने की मुख्यमंत्री से शिकायत

देवास। नगर निगम देवास में सबकुछ संभव है। रोड पहले बन जाती है और उसका टेंडर बाद में जारी हो जाता है। यानि यह पहले से तय रहता है की काम एक ही ठेकदार को मिलना तय है इसलिए पहले रोड बना दो बाद में टेंडर जारी कर दो। ऑनलाइन टेंडर जारी होने से अब पोल खुलने लगी है। इसकी शिकायत पर मुख्यमंत्री से की गई है।
शहर के तुकोगंज क्षेत्र के रहने वाले सुभाश पिता इंदरमल ने मंगलवार को जनसुनवाई के दौरान मुख्यमंत्री भोपाल व  मुख्य सचिव भोपाल, जनशिकायत निवारण विभाग भोपाल, नगरीय प्रशासन एवं आवास विभाग मंत्रीजी भोपाल, नगरीय प्रशासन एवं आवास विभाग प्रमुख सचिव भोपाल, आयुक्त महोदय उज्जैन संभाग कोठी महल उज्जैन, राज्य अपराध अनुसंधान (सी.आई.डी.) भोपाल के नाम एक शिकायत दर्ज कराई। साथ में सीएम हेल्पलाइन में भी शिकायत क्र. 6281236 दर्ज की है।
इस शिकायत पत्र में उल्लेख किया गया है कि नगर निगम में चल रहे क्रियाकलापों से भ्रष्टाचार की आशंका उत्पन्न हो रही है। नगर निगम द्वारा हाल ही में एक रोड़ बनाने के लिए आॅनलाईन निविदा जारी की गई है और यह रोड़ कुछ महीने पहले ही बनकर तैयार हुआ है। दिनांक 07 जून 2018 को एमपीएमसीड़ी/टेण्डर क्रमांक 424 में 56,42000/- रू. की लागत से ए.बी. रोड से मिश्रीलालनगर तक यू-सेप में सीसी रोड़ के निर्माण के लिए निविदाएं आमंत्रित की गई है जिसकी अंतिम तिथि 25 जून 2018 है।
शिकायत पत्र में उल्लेख किया गया है कि निविदा में जो मार्ग निर्माण हेतु दर्शाया गया है उस मार्ग का निर्माण कुछ माह पहले हो चुका है। जिस मार्ग का टेण्डर जारी हुआ है वह छाबड़ा मीना बाजार के समीप से मिश्रीलालनगर की ओर जाता है। यह मार्ग नगर तथा ग्राम निवेश विभाग से स्वीकृत नक्शे के अनुसार है जो 3 माह पहले बन चुका है। ए.बी. रोड़ से मिश्रीलालनगर का यह एक मात्र रोड़ स्वीकृत है और यही नाम टेण्डर में दर्शाया गया है।
इस शिकायत पत्र में आरोप लगाया गया है कि नगर निगम के झोनल इंजीनियरों ने मीडिया को गोलमोल जवाब देकर उक्त टेण्डर को सर्विस रोड़ बता दिया। जबकि टेण्डर में उल्लेखित मार्ग पर सर्विस रोड़ बन नही सकती है और यदि एबी रोड़ की सर्विस रोड़ होती तो एबी रोड़ के पूर्व राजमार्ग के दाएं बांए और मार्ग की जगह टेण्डर में सर्विस रोड़ का नाम उल्लेखित होता। इस प्रकार की निविदा जारी होने से भ्रश्टाचार की आशंका उत्पन्न हो रही है। आवेदनकर्ता सुभाश पिता इंदरमल शर्मा ने एक उच्च स्तरीय कमेटी बनाकर जांच कराने के साथ लापरवाह अधिकारी, कर्मचारी को तत्काल हटाते हुए टेण्डर को निरस्त करने की मांग की है।

https://rebrand.ly/whats830a0

error: Alert: मेहनत करें कॉपी नहीं