नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी को मिला 20 वर्ष का कारावास

देवास सिविल लाईन्स थाना अंतर्गत ग्राम बडोला की रहने वाली एक युवती के साथ धमकी देकर दुष्कर्म करने वाले एक आरोपी को न्यायालय द्वारा पच्चीस हजार रुपयों के अर्थदंड के साथ बीस वर्ष के कारावास की सजा सुनाई है ।

अभियोजन के उपसंचालक अजयसिंह भंवर तथा चन्दरसिंह परमार ने बताया कि दि. 04.06.2018 को 14 वर्षीय एक युवती ने अपनी मां और मामा के साथ थाना सिविल लाईन में आकर बताया कि दिनांक 04-05.02.2018 को दोपहर के करीब 12.00 बजे जब उसकी मां कहीं शादी में गई थी और घर पर उसका भाई व वह अकेली थी। जब वह पानी भरने के लिए सामने रहने वाले विष्णु परमार पिता गोवर्धन परमार उम्र 34 वर्ष निवासी बडोला के यहां गई थी तब उस समय आरोपी के घर पर कोई नहीं था । उसी समय आरोपी विष्णु ने दरवाजा बंद करके मेरा मुंह दबाकर जबरदस्ती गलत काम/बलात्कार किया और कहा कि किसी को बताया तो तेरे भाई को मार दूंगा एवं उसके बाद कई बार धमकाकर बलात्कार किया ।

युवती का स्वास्थ्य होने पर उसकी माँ उसे डाक्टर के पास ले गई डाक्टर द्वारा जांच से पता चला कि युवती गर्भवती है। युवती की रिपोर्ट पर थाना सिविल लाईन पर अपराध क्र 215/18 धारा 376(2)आई,376(2)एन,342,506 भादवि एवं 5(ज) 5(एल), 5(एन), पाक्सो एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया अन्य आवश्यक अनुसंधान उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया।

माननीय जिला एवं सत्र न्यायाधीश देवास (लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम, 2012) द्वारा सत्र प्रकरण क्र. 247/18 में दिनांक 20.02.2019 को निर्णय पारित कर आरोपी विष्णु आयु 34 वर्ष, निवासी ग्राम बड़ोला जिला देवास को धारा 376(एन)(आई) एवं पाक्सो एक्ट के धाराओं में 20 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 25,000 हजार रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया एवं पीड़ित युवती को पीड़ित प्रतिकर राशि दिये जाने का आदेष पारित किया गया। प्रकरण में जिला अभियोजन अधिकारी राजेंन्द्र कुमार खाण्डेगर, श्रीमती आषा शाक्यवार अति0जिला अभियोजन अधिकारी एवं गोपीकिशन बडौले का विषेष सहयोग रहा।

office sale