विडियो: सोनकच्छ में मुख्यमंत्री कमलनाथ की सभा विडियो में देखिए अनकट

किसानों पर लगे सभी मुक़दमे वापस होंगे, मुख्यमंत्री की घोषणा

मुख्य बिंदु 

  • मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोनकच्छ में 3490 करोड़ रुपए लागत की नर्मदा-कालीसिंध लिंक उद्वहन सिंचाई परियोजना की रखी आधार शिला
  • साढ़े 16 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित प्रदेश के पहले पोषण आहार संयंत्र का किया लोकार्पण
  • कर्जमाफी का वचन निभाया अब किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य भी दिलाएंगे- मुख्यमंत्री कमलनाथ

 देवास।  मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि किसानों की कर्ज माफी का वायदा हमने पूरा किया है, अब हमारी सरकार का दूसरा कदम होगा कि किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य मिले। उन्होंने कहा कि किसानों को उनके उत्पादन का यदि सही मूल्य मिलेगा तो किसान कर्ज में नहीं फंसेगा। मुख्यमंत्री कमलनाथ मंगलवार को देवास जिले के सोनकच्छ में 3490 करोड़ रुपए की नर्मदा-कालीसिंध लिंक उद्वहन सिंचाई परियोजना के भूमि पूजन तथा साढ़े 16 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित प्रदेश के पहले पोषण आहार संयंत्र के लोकार्पण कार्यक्रम में आमजन को संबोधित कर रहे थे।

    मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में 70 प्रतिशत से ज्यादा लोग कृषि क्षेत्र से जुड़े हैं। मप्र के विकास की बात आती है तो हमें कृषि क्षेत्र की मजबूती की बात करनी होगी। उन्होंने कहा कि नर्मदा-कालीसिंध लिंक उद्वहन सिंचाई परियोजना से कृषि क्षेत्र में उत्पादन बढ़ेगा किंतु किसानों को उनके बढ़ते उत्पादन का सही मूल्य मिले, इसकी चिंता भी हमको करना होगी। उन्होंने कहा कि किसानों की क्रय शक्ति बढ़ेगी तो व्यापार को भी बढ़ावा मिलेगा। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जय किसान ऋण माफी योजना में देवास जिले में प्रदेश में सबसे ज्यादा 91 हजार से अधिक किसानों के लगभग 250 करोड़ रुपए का कर्ज के प्रकरण स्वीकृत किए जाने पर खुशी जाहिर की। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कार्यक्रम में कहा कि किसान आंदोलन के दौरान किसानों पर जो मुकदमे चलाए गए हैं वे मुकदमे वापस लिए जाएंगे।

    मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि हमारी सरकार बने 60 दिन हुए हैं इस अवधि में हमारी सरकार ने अपनी नीति व नियति का परिचय दिया है। वचन पत्र में जो वायदे किए थे उनमें से किसानों की कर्जामाफी का वायदा शपथ लेने के तत्काल बाद पूरा कर दिया। उन्होंने कहा कि नौजवानों के लिए रोजगार की चिंता भी सरकार कर रही है। इसके लिए प्रदेश में कैसे निवेश आएं और कैसे उद्योग स्थापित हो जिससे कि नौजवानों को रोजगार मिले, इसके लिए भी प्रयास जारी हैं। उन्होंने दोहराया कि वचन पत्र में जो भी वचन किए गए हैं उनको हमारी सरकार पूरा करेगी।

    कार्यक्रम में  प्रदेश के खेल एवं युवा कल्याण विभाग एवं उच्च शिक्षा मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री जीतू पटवारी, लोक निर्माण एवं पर्यावरण विभाग के मंत्री सज्जनसिंह वर्मा, नर्मदा घाटी विकास एवं पर्यटन मंत्री सुरेंद्रसिंह बघेल, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री कमलेश्वर पटेल ने भी आमजन को संबोधित किया। लोक निर्माण एवं पर्यावरण विभाग के मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने कहा कि नर्मदा-कालीसिंध लिंक उद्वहन सिंचाई परियोजना से क्षेत्र के किसानों को सिंचाई हेतु पानी मिलेगा। सिंचाई के जरिए इस क्षेत्र में हरित क्रांति आएगी। उन्होंने परियोजना के दूसरे चरण के संबंध में भी अवगत कराया।

    कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 3490 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाली नर्मदा-कालीसिंध लिंक उद्वहन सिंचाई परियोजना के प्रथम चरण का भूमि पूजन किया। इस परियोजना से मालवांचल के तीन जिलों देवास, शाजापुर व सीहोर के 282 गांवों की एक लाख हेक्टेयर भूमि में सिंचाई सुविधा का लाभ होगा। सिंचाई की सुविधा पाइप लाइनों के माध्यम से प्रदान की जाएगी। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इसके साथ ही देवास तहसील के ग्राम खटाम्बा में साढ़े 16 करोड़ रुपए की लागत से 2500 मीट्रिक टन क्षमता के नवनिर्मित पोषण आहार संयंत्र का लोकार्पण भी किया। इस संयंत्र के माध्यम से देवास जिले सहित नौ जिलों को टेक होम राशन की आपूर्ति की जाएगी। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में देवास जिले में सबसे पहले यह संयंत्र बनकर तैयार हुआ है।

    कार्यक्रम में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जय किसान फसल ऋण माफी योजना में प्रतीक स्वरूप चयनित किसानों को फसल ऋण माफी के स्वीकृति पत्र तथा नो ड्यूज प्रमाण पत्र वितरित किए गए। इनमें चौबारा जागीर के किसान बलवान सिंह पिता नारायण सिंह की 01 लाख 75 हजार 335 रुपए, सकतली निवासी किसान अंबाराम पिता भागीरथ ऋण माफी राशि 01 लाख 73 हजार 640 रुपए, ग्राम तालोद निवासी किसान अजाप सिंह पिता अमरसिंह ऋण माफी राशि 01 लाख 60 हजार 868 रुपए, ग्राम रजापुर के किसान महेंद्रसिंह पिता नाथू सिंह ऋण माफी राशि 94 हजार 681 रुपए, ग्राम हरनावदा निवासी किसान कृपाल सिंह पिता देवकरण ऋण माफी राशि 78 हजार 768, ओड निवासी किसान सौदान सिंह पिता जगन्नाथ सिंह ऋण माफी राशि 49 हजार 609 रुपए तथा सोनकच्छ निवासी किसान कमलेश कुमार पिता भवानीशंकर ऋण माफी राशि 36 हजार 452 रुपए शामिल है।

कार्यक्रम में  प्रदेश के खेल युवा कल्याण विभाग एवं उच्च शिक्षा मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री जीतू पटवारी, लोक निर्माण एवं पर्यावरण विभाग के मंत्री सज्जनसिंह वर्मा, नर्मदा घाटी विकास एवं पर्यटन मंत्री सुरेंद्रसिंह बघेल, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री कमलेश्वर पटेल, किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री सचिन यादव, विधायक हाटपीपल्या मनोज चौधरी के अलावा महेश परमार, मनोज राजानी, पवन वर्मा, श्याम होलानी के अलावा अन्य जनप्रतिनिधिगण, संभागायुक्त अजीत कुमार, आईजी राकेश गुप्ता, कलेक्टर डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय, पुलिस अधीक्षक चंद्रशेखर सोलंकी आदि उपस्थित थे।

office sale