लाइव वीडियो: वन विभाग के अमले की पिटाई, जप्त की गई लकड़ी छुड़ाई

देवास। लकड़ी माफिया के हौसले इस कदर बुलंद है कि अब वह वन विभाग के हमले पर हमला करने से भी नहीं चूकते।
खातेगांव वन परिक्षेत्र के अंतर्गत ग्राम सातल में अवैध रूप से फर्नीचर बनाया जा रहा था। मुखबीर की सूचना पर वन विभाग मंगलवार को कार्रवाई करने पहुंचा। जिसमें बड़ी संख्या में लकड़ी के पलंग, पटिए और फर्नीचर का सामान मौके पर पाया। लकड़ी जब्ती के दौरान वन अमले पर हमला हुआ। जिसमें वनकर्मियों को चोटें आई। आरोपियों के घर जब्त की लकड़ी की कीमत करीब 40 हजार रुपए है। जो आरोपितों ने वन विभाग के वाहन से उतार ली।

मंगलवार को ग्राम सातल. कौलारी में तेजसिंह सेंधव के दो मंजिला मकान में अवैध सागौन की लकड़ी से फर्नीचर बनाने की सूचना पर सर्च वारंट जारी किया । जांच के लिए खातेगांव वनपरिक्षेत्राधिकारी राजेशसिंह सिसौदिया मोके पर पहुंचे तो उन्होंने सर्च वारंट तामील नहीं किया। मौके पर 7 नग पलंग 5 नग सागौन ,20 नग सागौन पटिए पाए गए जिन्हें जब्त कर उडऩ दस्ते वाहन में रख लिया।

आरोपित के घर जब्त की लकड़ी की कीमत करीब 40 हजार रुपए थी। इसके बाद तेजसिंह सेंधव के लड़के विरेन्द्र, चंदरसिंह, विक्रम, रामचंद्र सेंधव सहित अन्य ने लोगों ने मिलकर जब्त सामग्री को गाड़ी से उतार लिया व गाली गलौज करते हुए वन कर्मचारियों पर हमला कर दिया। ड्रेस भी फाड़ दी। हमले में विक्रमपुर के डिप्टी रेंजर महेशचंद्र वर्मा,रविन्द्र सोनी,द्वारका शर्मा को चोंट आई है जिसकी सूचना आवेदन के माध्यम से आगामी कार्यवाही के लिए थाना हरणगांव पर दी गई।

kvk april ad
व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ें और पाएं तुरंत खबरJoin Group