विडियो: शादी के दिन दूल्हा गया जेल, दुल्हन कोर्ट के बाहर करती रही इंतजार, नहीं मिली शादी की इजाजत

औद्योगिक थाना क्षेत्र में हुए राधेश्याम हत्याकांड का आरोपी है दूल्हा, कोर्ट में बैठे रहे परिजन, कोर्ट ने खारिज किया जमानत आवेदन

देवास। सोमवार को जिला न्यायालय के बाहर एक दुल्हन हत्या के आरोप में गिरफ्तार दुल्हे के इंतजार में रिश्तेदारों के साथ बैठी रही, विलाप करती रही। शादी के दिन ही दूल्हा हत्या के आरोप में जेल गया और शादी टल गई। औद्योगिक क्षेत्र थानांतर्गत संजय नगर में हुई राधेश्याम पिता भेरुलाल सोलंकी की हत्या के मामले में जेल गए एक आरोपी की जमानत के लिए परिजनों ने सोमवार को जमानत आवेदन प्रस्तुत किया । इस आरोपी की सोमवार को ही शादी होना थी। इसके लिए दुल्हन व करीब सौ बाराती भी कोर्ट पहुंचे। सभी कोर्ट में रहे लेकिन न्यायालय ने जमानत आवेदन खारिज कर दिया।

जानकारी के अनुसार सोमवार को पांच बजे बारात तराना जाना थी। इसके लिए आवेदन देकर जमानत देने की मांग की गई। साथ ही यह भी कहा गया कि अगर जमानत आवेदन स्वीकार नहीं होता है तो जिला जेल से आरोपी को पुलिस अभिरक्षा में विवाह स्थल पर शादी की रस्में पूरी करने के लिए भेजा जाए। दुल्हन सपना को न्यायाधीश से मिलवाया गया। मामले में विशेष न्यायालय एससीएसटी एक्ट ने अपराध की गंभीरता को देखते हुए आवेदन पत्र को अस्वीकार कर दिया। जमानत आवेदन का विरोध शासकीय वकील अशोक चावला ने किया। न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि अपराध गंभीर प्रकृति का है। विवाह कार्यक्रम में अत्यधिक भीड़ रहती है। इसका लाभ उठाकर आरोपी भाग सकता है।

उल्लेखनीय है कि रंगपंचमी पर हुए विवाद में कुछ लोगों ने संजय नगर निवासी राधेश्याम के साथ मारपीट की थी। सिर में चोट आने के कारण 11 अप्रैल को राधेश्याम की उपचार के दौरान इंदौर में मौत हो गई थी। मामले में औद्योगिक थाना पुलिस ने जांच के बाद संजय नगर निवासी आरोपी दीपक पिता देवीसिंह (19), चिंटू उर्फ बालकृष्ण पिता बाबूलाल (19), सुनील उर्फ सोनू पिता कैलाशचंद्र, विनोद पिता गिरधारीलाल, राहुल पिता कैलाशचंद्र, संदीप पिता चतरसिंह व एक नाबालिग आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया था। आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद सभी को जेल भेज दिया गया था।

office sale