मंडी में किसानों से करोड़ों के धोखे के मामले में तीन निलंबित, सचिव भी हो सकते हैं निलंबित

मंडी सचिव अश्विन सिन्हा को शोकाज नोटिस जारी

देवास। मंडी बोर्ड ने किसानों का करोड़ों रुपया भुगतान किए बगैर व्यापारी के भाग जाने पर कृषि उपज मंडी के तीन कर्मचारी निलंबित किए हैं और मंडी सचिव अश्विन सिन्हा हो नोटिस जारी किया गया है। मामले में अब तक पुलिस प्रकरण तक दर्ज नहीं हो सका है। जिससे 100 से अधिक किसानों का बकाया पैसा अटक गया है। अब मंडी प्रशासन द्वारा टीम बनाकर उस अनाज की जांच की जा रही है जो भगोड़े व्यापारी द्वारा वेयर हाउस में रखा गया है।

किसानों को बगैर भुगतान किए गायब हुए व्यापारी महेश सोनी के मामले में मंडी बोर्ड ने मंडी प्रांगण प्रभारी निरीक्षक राजेंद्र जैन और अभय मेहता सहित भुगतान हेतू नियुक्त कर्मचारी आलोक गुप्ता को प्राथमिक रुप से दोषी मानकर निलंबित कर दिया है। मंडी परिसर में किसानों को बगैर भुगतान किए व्यापारी द्वारा अनाज बाहर हो जाने में मिलीभगत की आशंका के चलते मंडी सचिव आश्विन सिन्हा को कारण बताओ नोटिस दिया गया है।

किसानों का पैसा नहीं दिए जाने के मामले के बाद मंडी आयुक्त फैज अहमद किदवई ने निर्देश जारी किए कि हर मंडी में हर किसान को भुगतान किया जाए इसके लिए टीम बनाकर निरंतर निगरानी करवाई जाना चाहिए। किसान को भुगतान होने के बाद ही मंडी से उपज को बाहर ले जाने की अनुमति मिलना चाहिए। किसी भी स्थिति में व्यापारी को उसके द्वारा जमा करवाई गई प्रतिभूति राशि से ज्यादा अनाज खरीदने की अनुमति नहीं मिलना चाहिए। इन नियमों और निर्देशों का पालन नहीं होने पर संबंधित दोषी पर कठोर कार्रवाई होना चाहिए। किसानों से भी अपील की गई कि अनाज बिक्री का भुगतान प्राप्त करने के बाद ही मंडी से जाएं और किसी भी तरह की समस्या, गड़बड़ी और अनियमितता होने पर तुरंत जिम्मेदार अधिकारी से शिकायत करें। ताकि गड़बड़ी को रोका जा सके।

मंडी सचिव निलंबित हो सकते हैं

सूत्रों के अनुसार देवास कृषि उपज मंडी सचिव अश्विन सिन्हा पर इस भारी लापरवाही की गाज गिर सकती है, उन्हें निलंबित किया जा सकता है। उल्लेखनीय है की देवास कृषि उपज मंडी में अश्विन सिन्हा के कार्यकाल में चार महीने के दौरान किसानों की उपज का पैसा खा कर भाग जाने का यह दूसरा मामला है। पहले विद्या ट्रेडर्स का मालिक किसानों के 21 लाख रूपये खा कर भाग गया था जिसकी भरपाई मंडी समिति ने व्यापारियों से सहयोग लेकर किसानों का पेमेंट किया था। इसके बाद भी गंभीरता नहीं बरती गयी और न ही प्रतिभूति राशी जमा करवाई गई और दूसरी घटना हो गई। इस बार का मामला करोड़ों रुपए का है जिसमे सोमेश्वर ट्रेडर्स का व्यापारी महेश सोनी सैकड़ों किसानों की उपज का पैसा खा कर भाग गया और उसका माल भी मंडी से बाहर हो गया।

देखें विडियो रिपोर्ट भी 

office sale