फाइनेंस कंपनी के कर्मचारियों से लूट के मामले में तीन आरोपी गिरफ्तार, एक फरार

लगातार फाइनेंस कंपनियों के कर्मचारी टार्गेट किये जा रहे थे, प्रेस वार्ता में पुलिस अधीक्षक चंद्रशेखर सोलंकी ने किया खुलासा

देवास। जिले के पीपलरावां थाना क्षेत्र में 6 मई को हुई लूट की वारदात का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। लूट को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरतार कर लिया है। जबकि एक आरोपी फरार बताया गया है। वारदात के दिन आरोपी कर्मचारी से 43 हजार 849 रुपये व मोबाइल छीनकर फरार हो गए थे।

प्राप्त जानकारी के अनुसार फाइनेंस कंपनी में कार्यरत कर्मचारी पिंटू पिता देवीसिंह खारोल निवासी देहरिया साहू 6 मई को सुबह पीरपाड़ल्या में समूह की मीटिंग लेने व कलेक्शन के लिए आया था। मीटिंग के बाद बाइक क्रमांक एमपी 41 एनबी 5368 से वह घट्टियाकला की ओर जा रहा था, तभी दो बदमाश बाइक पर आए और उससे कलेक्शन की राशि व एक मोबाइल छीनकर भाग गए थे।

इसी घटना का खुलासा करते हुए प्रेस वार्ता में पुलिस अधीक्षक चंद्रशेार सोलंकी ने बताया कि फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी के साथ हुई लूट को लेकर तत्काल क्राइम ब्रांच और पुलिस की टीम का गठन कर दिया था व शीघ्र आरोपियों को गिरतार करने के निर्देश दिये थे। पुलिस ने 24 घंटे के अंदर लूट के आरोपी सुनील पिता मांगीलाल जाति बलाई निवासी ग्राम पीरपाड़ल्या, जगदीश उर्फ नाना पिता पूंजालाल जाति बलाई निवासी ग्राम स मसोड़ी और संजू उर्फ संजय पिता छीतू मालवीय निवासी ग्राम स मसोड़ी को गिरतार किया। पूछताछ में तीनों आरोपियों ने लूट की वारदात करना कबूल किया। इस लूट का मुख्य आरोपी  भगवानसिंह पिता जगन्नाथ सिंह निवासी ग्राम पीरपाड़ल्या बताया गया है, जो फिलहाल फरार बताया गया है। पुलिस ने तीनों बदमाशों की निशानदेही पर लूट का माल जत कर लिया है। पुलिस अधीक्षक चंद्रशेार सोलंकी ने बताया कि गिरोह का काम करने का तरीका यह था कि दो लोग रैकी करते थे और जिस व्यक्ति के साथ लूट की वारदात करना होती थी, उसकी लोकेशन के बारे में जानकारी अपने अन्य दो साथियों को देते थे। यही दो लोग लूट की वारदात को अंजाम दे देते थे।

इनकी रही महत्वपूर्ण भूमिका

फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी से हुई लूट के तीन बदमाशों को मात्र 24 घंटे में पकडऩे के लिए पुलिस अधीक्षक चंद्रशेार सोलंकी और एएसपी जगदीश डाबर के मार्गदर्शन में एसडीओपी सोनकच्छ कुलवंतसिंह एवं सीएसपी अनिलसिंह राठौड़ के निर्देशन में क्राइम ब्रांच के सब इंस्पे टर शकील कुरैशी, प्रधान आरक्षक मनोज पटेल, कमल झोडिया, आरक्षक देवेंद्र सोलंकी, सुनील देथलिया, शैलेंद्र राणा, राहुल शर्मा, विकास पटेल और पीपलरावां टीआई प्रीति बाथरी, सब इंस्पे टर गौरीशंकर वर्मा, आरक्षक देवेंद्र गोस्वामी, बाबूलाल पटेल व आलोक बरूवा की  भूमिका महत्वपूर्ण रही।

office sale
व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ें और पाएं तुरंत खबरJoin Group