महिला के साथ गैंगरेप, भाजपा समर्थित सरपंच और उसके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज

  • महिला के साथ गैंगरेप, जेठ ने संबंध बनाने के बाद किया साथियों के हवाले
  • भाजपा समर्थित सरपंच और उसके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज
  • महिला हुई गर्भवती
  • सभी आरोपी फरार
पुनीत जैन खातेगांव 
देवास/खातेगांव।  तहसील में एक महिला के साथ सामूहिक गैंगरेप का मामला सामने आया है। नेमावर के नजदीकी ग्राम पिपलिया घाघरिया की रहने वाली पीड़िता ने उसके साथ गैंगरेप का आरोप लगाते हुए बुधवार को नेमावर थाने में मामला दर्ज करवाया है। जानकारी के मुताबिक पुलिस पर मामला दर्ज ना करने को लेकर राजनितिक दबाब भी खूब बनाया गया, लेकिन अंततः मामला दर्ज हो ही गया।
गैंगरेप में नवलगांव के भाजपा समर्थित सरपंच राजनारायण पंवार उर्फ़ पप्पू और उसके साथियों के शामिल होने का आरोप पीड़िता ने लगाया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है, अभी तक सारे आरोपी फरार हैं।
महिला ने पुलिस को बताया कि मामला 4-5 माह पुराना है। इस बीच एक बार वो हिम्मत करके रिपोर्ट कराने के लिए घर से थाने के लिए निकली भी, लेकिन रास्ते से ही घरवाले उसे समझा बुझाकर वापिस ले गए।
नेमावर टीआई जयवंत सिंह ने बताया कि फरियादी महिला का 2017 में विवाह हुआ। शादी के बाद से ही उसके और उसके पति के बीच अनबन चलती रहती थी। जिसके कारण पति उसे छोड़कर चला गया। दोनों का एक बच्चा भी है, जिसे उसका पति अपने साथ ले गया था।
बच्चे के मोह में परेशान फरियादी महिला के जेठ दिनेश ने महिला से कहा मैं तुम्हारे पति से बच्चे को वापस दिलवा दूंगा, तो पीड़ित महिला दिनेश के झांसे में आ गई।  जिसके बाद दिनेश ने महिला के साथ कई बार खोटा काम किया। साथ ही खातेगांव और नेमावर में भी आरोपी जेठ दिनेश ने अन्य लोगों से मिलकर उनके हवाले कर खोटा काम करवाया और उसके बदले उनसे पैसे और शराब ली। उसके बाद भी जब महिला को बच्चा वापिस नहीं मिला तो वह दिनेश पर दबाब बनाने लगी और पुलिस में रिपोर्ट करने की धमकी दी। इसी बीच दिनेश अपने बीबी बच्चों को लेकर घर से कहीं चला गया, तो महिला का शक और बढ़ गया। तब उसने बुधवार को आकर रिपोर्ट लिखाई।
फिलहाल पुलिस ने फरियादी महिला की रिपोर्ट पर महिला के जेठ दिनेश घावरी निवासी पिपल्या घाघरिया, नवलगांव सरपंच राजनारायण पंवार, नेमावर के दिलीप सोनिया एवं एक अन्य के विरुद्ध मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है।
रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद जब उसका मेडिकल हुआ तो पता चला कि उसे 4-5 माह का गर्भ है। गुरुवार को सोनोग्राफी करवाकर और जांच की जायेगी।
बुधवार को ही मजिस्ट्रेट के सामने 164 में महिला के बयान हुए। जानकारी यह भी सामने आयी है कि रिपोर्ट में सरपंच का नाम दर्ज कराने के कुछ ही घंटे बाद हुए मजिस्ट्रेट के सामने हुए बयान में महिला ने सरपंच का नाम नहीं लिया है। हालाँकि इसकी बात की पुष्टि नहीं हो सकी।
सरपंच पप्पू को भाजपा विधायक आशीष शर्मा का कट्टर समर्थक माना जाता है। इसलिए इस मामले की जानकारी लगते ही क्षेत्र में राजनितिक हलचलें तेज हो गयी।
office sale
व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ें और पाएं तुरंत खबरJoin Group