देवासप्रशासनिक

कलेक्टर श्री चंद्रमौली शुक्ला ने जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया

जिला अस्पताल में 10 बेड आईसीयू एवं 60 बेड ऑक्सीजन का कार्य शीघ्र पूर्ण करें

देवास 11 जून 2020/ कलेक्टर श्री चंद्रमौली शुक्ला ने आज जिला अस्पताल निरीक्षण किया। उन्होंने कोविड-19 आइसोलेशन वार्ड, फीवर क्लीनिक, आईसीयू, डायलिसिस, एसएनसीयू तथा अन्य सेक्शन का निरीक्षण किया। कलेक्टर श्री शुक्ला ने जिला अस्पताल में 10 बैड आईसीयू एवं 60 बेड ऑक्सीजन का कार्य शीघ्र पूर्ण करने तथा अस्पताल में आवश्यक सुधार के निर्देश दिए। इस दौरान मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरके सक्सेना, सिविल सर्जन डॉ, अतुल बिड़वई, आरएमओ डॉ. एम.एस.गोसर सहित अन्य चिकित्सक एवं स्टॉफ उपस्थित थे।
विशेष रणनीति बनाकर जिला अस्पताल को बनाएंगे सर्व सुविधायुक्त
कलेक्टर श्री चंद्रमौली शुक्ला ने निरीक्षण के दौरान सीएमएचओ डॉ. सक्सेना को जिला अस्पताल के लिए विशेष रणनीति पर काम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिला अस्पताल को सर्व सुविधायुक्त, स्वच्छ और एक अच्छा वातावरण बने इस ध्यान दिया जाएं। उन्होंने कहा कि आम जनता को अस्पताल में सर्व सुविधा आसानी से मिले उन्हें इधर-उधर नहीं भटकना पड़े। उन्होंने कहा कि वर्तमान में चल रही वैश्विक महामारी कोरोना की रोकथाम के लिए भी विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। कोविड-19 के संबंध में भी उन्होंने सीएमएचओ एवं सिविल सर्जन से चर्चा कर प्रभावी नियंत्रण के लिए आवश्यक निर्देश दिए, चिकित्सक व स्टॉफ को सावधान एवं सतर्कता के साथ वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से बचाव नियंत्रण में काम करते हुए आमजन को सहयोग करने की बात कही। कलेक्टर ने निर्देश दिए कि जिला अस्पताल परिसर में डोम बनाया जा रहा है। इसमें 100 लोगों को सोशल डिस्टेसिंग का पालन कराते हुए चेकअप किया जाए। उन्होंने निर्देश कि जिला चिकित्सालय के प्रवेश द्वार इमरजेंसी गेट पर बाहर से आने वाले व्यक्तियों की थर्मल स्कैनिंग और जांच की जाए जो मरीज सर्दी, खांसी, बुखार के आए उन्हें फीवर क्लीनिक में जांच कराने हेतु भेजा जाए।
जिला अस्पताल की पुताई एवं साफ-सफाई कार्य करवाया जाए
कलेक्टर श्री शुक्ला ने कहा की जिला अस्पताल में साफ-सफाई व्यवस्था को और बेहतर बनाने की आवश्यकता हैं। पूरे अस्पताल की साफ-सफाई करवाई जाए तथा बिल्डिंग की पुताई करवाई जाए। मरीजों के लिए जो पलंग हैं उनका भी रंग-रोगन करवाया जाए। उन्होंने कहा कि अगर कोई बाहरी व्यक्ति इलाज के लिए जिला अस्पताल में आए तो बेहतर वातावरण के साथ इलाज हेतु उसे सही दिशा, सहयोग मिलना चाहिए। व्यक्ति को अपना इलाज कराने के लिए अस्पताल में सही जानकारी मिलने संबंधित व्यवस्थित साइन बोर्ड और योजनाओं की जानकारी सही व निर्धारित स्थान पर डिस्प्ले होना चाहिए। आउट सोर्स एजेंसी द्वारा जो कार्य किए जा रहे हैं उसके सुपरविजन के लिए अस्पताल के किसी अस्पताल के अधिकारी को नियुक्त किया जाए। टीम द्वारा निरंतर मॉनिटरिंग कर सही दिशा निर्देश में प्रोटोकॉल ओर शासन की गाइडलाइन अनुसार कार्य कराएं जावे।
निरीक्षण के पश्चात कलेक्टर श्री शुक्ला ने सिविल सर्जन कक्ष में अधिकारियों की बैठक ली। बैठक के दौरान अस्पताल की योजनाओं की जानकारी सिविल सर्जन डॉ. अतुल बिड़वई और आरएमओ डॉ एम.एस. गोसर से ली। कलेक्टर शुक्ला ने कहा कि जिला अस्पताल में उपलब्ध जगह का कुछ स्थानों पर सही तरीके से उपयोग नहीं हुआ है, उपलब्ध स्पेस का सही उपयोग करने हेतु विशेष रणनीति पर काम करने की आवश्यकता है। इस हेतु सिविल सर्जन, आरएमओ और सहायक अस्पताल प्रबंधक द्वारा आंकलन करने के निर्देश दिये। उन्होंने आमजन के हित में योजना बनाकर जिला अस्पताल में गुणवत्तापूर्ण, अधिक से अधिक सुविधाये, आम लोगों को उपलब्ध कराया जा सके इसके लिए भी निर्देश दिये। साथ ही अस्पताल की रंगाई पुताई अंदर और बाहर कराने, अस्पताल परिसर में गार्डन और पार्किंग व्यवस्था को ठीक करने हेतु सिविल सर्जन और आरएमओ को निर्देश दिये।

Sneha
sandipani
san thome school
little cry

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button