देवासन्यायालय

कोर्ट बंद रहने से आर्थिक परेशानियों का सामना कर रहे अभिभाषक, न्यायालयीन कार्य शीघ्र प्रारंभ किया जाए : अभिभाषक संघ

देवास। कोरोना महामारी के कारण सम्पूर्ण देश में लोकडाउन किया गया था, जिसके अंतर्गत न्यायालयों में भी अत्यावश्यक कार्य को छोडक़र न्यायालय में न्यायिक कार्य बंद है। लेकिन सरकार द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए सभी प्रकार के व्यवसायिक प्रतिष्ठानों, कारखानों तथा सभी शासकीय कार्यालय प्रारंभ कर दिए है। जिसमें नियमित कामकाज किया जा रहा है।

जिला अभिभाषक संघ के सचिव प्रवीण शर्मा ने बताया कि माननीय उच्च न्यायालय जबलपुर के आदेश अनुसार प्रदेश के सभी न्यायालयों में लॉकडाउन है, जिसके चलते प्रकरणों की सुनवाई नही हो पा रही है। सिर्फ अतिआवश्यक मामले की सुनवाई वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से की जा रही है। ऐसी परिस्थिति में अधिवक्ताओं को आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है एवं आम व्यक्ति न्याय से वंचित हो रहा है। आने वाले समय में इससे न्यायालयीन कार्य का भार बड़ेगा और प्रकरणों की भी संख्या बड़ती जा रही है।

इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए जिला अभिभाषक संघ देवास के अध्यक्ष मनोज हेतावल, उपाध्यक्ष चंद्रपालसिंह राजपूत (चंदू दरबार), सचिव प्रवीण शर्मा, सहसचिव चंद्रपालसिंह राठौड़ ने माननीय जिला एवं सत्र न्यायाधीश महोदय को मुख्य न्यायाधीपति महोदय जबलपुर के नाम ज्ञापन सौंपा और मांग की है कि न्यायालयीन कार्य शीघ्र प्रारंभ किया जाए। संघ द्वारा सुझाव दिए कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए न्यायालय निश्चित मात्रा में अत्यआवश्यक मामलों की सुनवाई क्रमानुसार प्रारंभ करे। इस अवसर पर अधिवक्ता अर्जुनसिंह रावत, हेमंत शर्मा, अवधेश श्रीवास्तव, भगवानसिंह राजपूत, शाहिद शेख, चेतन राठौड़, अभिनव व्यास, लाखनसिंह राजपूत, कैलाशचंद्र आचार्य, रजनीश द्विवेदी, शहजाद शेख, प्रकाशसिंह, विष्णु अग्रवाल, एसके मिश्रा, भगवानसिंह गुर्जर, विष्णु चौधरी सहित आदि अभिभाषकगण उपस्थित थे।

Sneha
little cry
sandipani
san thome school

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button