देवासप्रशासनिक

देवास विधायक गायत्री राजे पवार ने जिला अस्पताल के लिए लिक्विड ऑक्सीजन गैस टैंक की मांग कि

  • सरकार और समाज मिलकर लड़ें कोरोना से
  • कोरोना संक्रमित रोगियों को ऑक्सीजन आपूर्ति सर्वोच्च प्राथमिकता
  • 90 प्रतिशत ऑक्सीजन अस्पतालों के लिए सुरक्षित, शेष 10 प्रतिशत उद्योगों को
  • सभी जिलों में होगी सीटी स्केन की व्यवस्था
  • मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप्स के सदस्यों से चर्चा

देवास। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जब तक कोरोना पूरी तरह नियंत्रित नहीं होता, सरकार और समाज को मिलकर लड़ना होगा। जन सहयोग से ही इस संक्रमण को नियंत्रित किया जा सकता है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग भी इस अवसर पर उपस्थित थे। देवास जिले में कलेक्ट्रेट परिसर स्थित एनआईसी वीडियो कांफ्रेंसिंग कक्ष में सांसद श्री महेंद्र सिंह सोलंकी, विधायक श्रीमती गायत्रीराजे पवार, कलेक्टर श्री चंद्रमौली शुक्ला, पुलिस अधीक्षक डॉ. शिवदयाल सिंह, एडीएम श्री महेंद्र सिंह कवचे, सीएमएचओ डॉ.एमपी शर्मा सहितसंबंधित अधिकारी व डिस्ट्रिक्ट क्राइसिस मेनेजमेन्ट ग्रूप के सदस्य मुख्यमंत्री जी के संवाद कार्यक्रम में शामिल हुए।
इस दौरान विधायक श्रीमती गायत्रीराजे पवार ने मुख्यमंत्री श्री चौहान से चर्चा में कहा कि जिले में रेमडेसिविर इंजेक्शन की आपूर्ति एवं ऑक्सीजन गैस की पर्याप्त आपूर्ति की मांग की। विधायक श्रीमती पवार ने जिले में ऑक्सीजन गैस की मांग की तथा उन्होंने जिला अस्पताल में एक लिक्विड ऑक्सीजन टैंक की मांग की है। यह स्वीकृत हो जाएगा तो हमें ऑक्सीजन गैस सिलेंडर पर निर्भर नहीं होना पड़ेगा। विधायक श्रीमती पवार ने अमलतास अस्पताल में मरीजों के लिए 50 आईसीयू बेड एवं 100 ऑक्सीजन युक्त बेडस की मांग की।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी, अतिरिक्त व्यवस्था की गई है। कई बार कमी की खबरों के संदर्भ में संग्रहण की प्रवृति बढ़ जाती है। कालाबाजारी और संग्रहण पर कठोर कार्यवाई की जाएगी। वर्तमान में 180 लाख में टन उपलब्धता है। आज गुजरात के मुख्यमंत्री से भी मध्यप्रदेश के लिए अतिरिक्त ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए चर्चा की है। नब्बे प्रतिशत ऑक्सीजन अस्पतालों के लिए सुरक्षित कर दी गई है। उद्योगों को दस प्रतिशत ऑक्सीजन ही दी जायेगी। कोरोना संक्रमित रोगियों के लिए प्राथमिकता से आक्सीजन की व्यवस्था रहेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी जिलों में सीटी स्केन की व्यवस्था जल्द से जल्द की जा रही है।
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज मंत्रालय से वीडियो कांफ्रेंस द्वारा जिलों के क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप्स के सदस्यों से चर्चा कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना नियंत्रित करने के लिए तीन दिशाओं में कार्य किया जा रहा। जन-जागरूकता द्वारा फेस मास्क के उपयोग, उचित दूरी, बार-बार हाथ धोने जैसे व्यवहार को प्रोत्साहित किया जा रहा है। दूसरा रोगी के बेहतर उपचार एवं देखभाल के लिए हर संभव व्यवस्था स्थापित की जा रही है। साथ ही प्रदेश में वेक्सीनेशन को गति दी जा रही है।
ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए कंट्रोल रूम गठित
राज्य में ऑक्सीजन व्यवस्था के लिए समीक्षा की जा रही है। एक नियंत्रण कक्ष भी बनाया गया है। श्री पी नरहरि को इसका प्रभारी बनाया गया है। प्रतिदिन मध्यप्रदेश के एमएसएमई सेक्टर द्वारा आक्सीजन उत्पादन के साथ अन्य प्रांतों से आक्सीजन बुलवाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है।
जनता का सहयोग जरूरी
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 45 वर्ष से अधिक आयु वाले प्रत्येक व्यक्ति को वेक्सीन लगवाना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी नागरिक प्रदेश में जन-जागरण में सहयोग दें। आम नागरिकों द्वारा कोविड के दृष्टिगत अनुकूल व्यवहार की अपेक्षा है। आमजन से आग्रह है कि लोग घरों से अनावश्यक रूप से न निकले और संक्रमण रोकने में सहयोग करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं भी संक्रमण रोकने के लिए स्वास्थ्य आग्रह पर बैठा था। अनेक वालेंटियर्स इस कार्य में साथ दे रहे हैं। अस्पतालों में भी अनेक वारियर्स कठिन हालातों में जुटे हुए हैं। इनका सम्मान किया जाएगा।
टीका उत्सव
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में 11 अप्रैल ज्योतिबा फुले जयंती से 14 अप्रैल डॉ. अंबेडकर जयंती तक टीका उत्सव रहेगा। इसके लिए तैयारियाँ पूरी की जाएं। कोविड परिस्थितियों पर सब गंभीर रहे। जन-प्रतिनिधि जनता को मास्क के उपयोग की समझाइश दें। इस क्षेत्र में कार्य कर रहे वालेंटियर्स सक्रिय हैं। अनेक स्वैच्छिक संगठन भी कार्य कर रहे हैं।

Sneha
san thome school

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button