अपराधदेवास

हत्या की सजा काट रहे समीर राय की घर से बाहर बुला कर हत्या, ठीक 8 साल पहले की थी उसने पीयूष रघुवंशी की हत्या

मृतक समीर राय


देवास लाइव। 8 साल पहले बायपास स्थित एक ढाबे में पीयूष रघुवंशी की हत्या कर दी गई थी इस हत्या के आरोप में समीर राय को आजीवन कारावास की सजा हुई थी। 1 जून 2013 को हुई इस घटना के ठीक 8 साल बाद समीर राय की भी हत्या हो गई। समीर राय कोरोना पैरोल पर आया हुआ था, घर के बाहर स्कूटर पर आए तीन युवकों ने उसे बुलाया और कुछ देर बात करने के बाद गोली मार दी। यह घटनाक्रम सीसीटीवी में भी दर्ज हुआ है।


कराेली नगर काॅलाेनी में पिछले 12 दिन से जेल से पैराेल पर आए आजीवन कारावास के कैदी समीर उर्फ निक्की 28 पिता स्व. रंजन राय की मंगलवार शाम करीब 4.15 बजे दाे अज्ञात युवकाें ने गाेली मारकर हत्या कर दी। हत्या के बाद आराेपी माैके से स्कूटर पर सवार हाेकर भाग गए। घायल अवस्था में पड़ाेसियाें ने समीर काे उपचार के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां डाॅक्टराें ने चेकअप के बाद मृत घाेषित कर दिया।


सिविल लाइन पुलिस के अनुसार मृतक समीर के माता-पिता का पूर्व में निधन हाे चुका है। घर में छाेटा भाई और पत्नी है। हत्या वाले दिन मृतक घर में पत्नी के साथ था। मृतक के माेबाइल पर फाेन लगाकर उसे बाहर बुलाया और गाेली मार दी।

सीसीटीवी में दर्ज संदिग्ध


पुलिस ने घटना स्थल के पास लगे एक मकान से सीसीटीवी फुटेज ले लिए हैं। फुटेज में दिख रहा, दाे युवक स्कूटर पर सवार हाेकर आए और मृतक के घर तक पैदल पहुंचे। माेबाइल निकाल फाेन लगाया, कुछ देर में समीर घर से बाहर आया। दाेनाें युवक उससे बातचीत करते-करते कुछ दूर ले गए और अचानक सीने में फायर कर दिया। गाेली लगने से समीर जमीन पर गिरकर खून में लथपथ हाे गया। स्कूटर पर वापस तीन युवक भागते हुए नजर आए। आराेपियाें की पहचान नहीं हाे पाई है।


आजीवन कारावास की काट रहा था सजा समीर


आराेपी समीर ने 1 जून 2013 काे देवास बायपास स्थित गुरुकृपा ढाबे पर घूरकर देखने की बात काे लेकर विवाद के चलते पीयूष उर्फ बिट्टू पिता अशाेक रघुवंशी की गाेली मारकर हत्या कर दी थी। समीर के छाेटे भाई छाेटू राय की घूरकर देखने पर कहासुनी हाेने पर उसने बड़े भाई मृतक समीर काे फाेन लगाकर बुलाया था। बड़े भाई ने अन्य साथियाें के साथ मिलकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने उस समय 11 लाेगाें के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज किया था।


1 जून 2013 काे हत्या करने वाले की हत्या आठ साल बाद 1 जून को ही हो जाती है। हत्या की तारीख कई सवाल खड़े कर रही है। समीर 12 दिन पहले ही जेल से 60 दिन के पैराेल पर आया था। पुलिस आराेपियाें की तलाश में जुट गई है। इधर सूत्रों के अनुसार घटना के बाद कई आपराधिक किस्म के युवक देवास छाेड़कर भाग गए हैं।

Sneha
Royal Group

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button

Adblock Detected

कृपया Adbloker बंद करें और क्रोम ब्राउजर मे ही ओपन करें