खेती किसानीदेवास

अलर्ट: देवास जिले में आज बड़े टिड्डी दल का हमला हो सकता है, किसान भाई तैयार रहें, पूरी खबर पढ़ें

देवास लाइव। बुधवार को देवास जिले में कई स्थानों पर  टिड्डी दल का आक्रमण हुआ था। शहर में भी टिड्डी दल करीब एक घंटे से अधिक समय तक रहा था। लेकिन आज खतरा और भी बड़ा है क्योकि नीमच रतलाम की तरफ से आज बड़ा टिड्डी दल जिले में प्रवेश कर सकता है।

कृषि विज्ञानं केंद्र के कीट वैज्ञानिक मनीष कुमार ने बताया की बुधवार को हुए टिड्डी आगमन के कहीं बड़ा दल आज देवास जिले में आ सकता है। किसानों को इसे भगाने के उपाय करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

किसान भाई टिड्डी दल से बचाव एवं सतर्कता बरतें

राजस्थान से लगे कुछ गांव नीमच जिले के सिंगरौली तहसील क्षेत्र एवं आगर-मालवा जिले के कुछ क्षेत्र में टिड्डियों का दल आ चुका है जो खेतों में लगी हुई फसलों एवं वनस्पतियों को खाकर नष्ट कर रहा है। टिड्डी दल के किसी भी जगह पहुंचने की संभावना हो सकती है। यह टिड्डी दल समूह में रात्रिकालीन के समय खेतों में रूककर फसलों को खाता है एवं जमीन में लगभग 500 से 1500 अण्डे प्रति कीट देकर सुबह उड़ करके दूसरी जगह चला जाता है। टिड्डी दल के समूह में संख्या लाखों होती है। ये जहां भी पेड़-पौधे या अन्य वनस्पति दिखाई देती है, उसको खाकर आगे बढ़ जाते हैं। पूर्व में इसका प्रकोप पाकिस्तान से सटे हुए राजस्थान के कई जिलों में देखा जाता था, लेकिन इस वर्ष मध्यप्रदेश के कुछ जिलों में भी देखा गया है। ऐसी स्थिति में जिले के सभी किसान मित्रों को सलाह दी जाती है कि आप अपने स्तर पर अपने गांव में समूह बनाकर खेतों में रात्रिकालीन के समय निगरानी करें। यदि टिड्डी दल का प्रकोप होता है तो सुबह 3 बजे से 5 बजे के बीच में कृषि विज्ञान केन्द्र के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. ए.के.दीक्षित एवं कीट वैज्ञानिक डॉ. मनीष कुमार के द्वारा दी गई सलाह से टिड्डी दल से बचा जा सकता है।

  1. किसान भाई इस कीट की सतत् निगरानी रखे, यह किसी भी समय खेतों में आक्रमण कर क्षति पहुंचा सकते हैं। सायंकाल 7 बजे से 9 बजे के मध्य यह दल रात्रिकालीन विश्राम के लिए कहीं भी बैठ सकते हैं जिसकी पहचान एवं जानकारी के लिए स्थानीय स्तर पर दल का गठन कर सतत् निगरानी रखें।
  2. जैसे किसी गांव में टिड्डी के आक्रमण एवं पहचान की जानकारी मिलती है तो त्वरित गति से स्थानीय प्रषासन कृषि विभाग, कृषि विज्ञान केन्द्र से संपर्क कर जानकारी देवें।
  3. यदि टिड्डी दल का प्रकोप हो गया है तो सभी किसान भाई टोली बनाकर विभिन्न तरह की परापरंगित उपाय जैसे शोर मचाकर, अधिक ध्वनि वाले यंत्रों को बजाकर या पौधों की डालों से अपने खेत से भगाया जा सकता है।
  4. यदि सायं के समय टिड्डी दल का प्रकोप हो गया है तो सुबह 3 बजे से 5 बजे तक तुरंत निम्नलिखित अनुषंसित कीटनाषी दवायें ट्रेक्टरचलित स्प्रे पंप (पाॅवर स्प्रेयर) द्वारा जैसे-क्लोरपाॅयरीफाॅस 20 ई.सी. 1200 मिली. या डेल्टामेथरिन 2.8 ई.सी. 600 मिली. अथवा लेम्डासाईलोथिन 5 ई.सी. 400 मिली., डाईफ्लूबिनज्यूरान 25 डब्ल्यू.टी. 240 ग्राम प्रति हैक्टेयर 600 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।
  5. रासायनिक कीटनाषी पाउडर मेलाथियान 5 प्रतिषत 20 कि.ग्रा. या फेनबिलरेड 0.4 प्रतिषत 20-25 किग्रा. या क्यूनालफाॅस 1.5 बी.पी. 25 किग्रा. प्रति हैक्टेयर की दल से बुरकाव करें।
  6. किसान भाई टिड्डी दल के आक्रमण के समय यदि कीटनाषी दवा उपलब्ध न हो तो ऐसी स्थिति में टैªक्टरचलित पावर स्प्रे के द्वारा तेज बौछार से भगाया जा सकता है।
Royal Group
Sneha

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button

Adblock Detected

कृपया Adbloker बंद करें और क्रोम ब्राउजर मे ही ओपन करें