देवासव्यापार

हॉलमार्क के नाम पर देवास में खोटा सोना, रहिए होशियार, पक्का सर्टिफाइड बिल मांगिए, कैसे ठगा जाता है पढ़िए

देवास लाइव। शादियों का सीजन आने वाला है और ऐसे में अब सोने के आभूषण की खरीदी भी बढ़ने वाली है। देवास में हॉलमार्क के नाम पर खोटा सोना भी बेचे जाने की खबर है।

वर्ष 2018 में देवास के तीन ज्वेलर्स श्री आनंद ज्वेलर्स ए बी रोड, आनंद ज्वेलर्स एमजी रोड और रजत ज्वेलर्स से बीआईएस ने हॉलमार्क जेवर के सैंपल लिए थे। इसके अलावा इंदौर और भोपाल के कई नामचीन सुनारों के प्रतिष्ठानों से भी सैंपल लिए गए थे। इनमें से कई प्रतिष्ठानों के सैंपल फेल हुए थे। हालांकि जिन सुनारों के सैंपल फेल हुए उनके नाम का खुलासा भारतीय मानक ब्यूरो के अधिकारियों ने नहीं किया था। लेकिन उन पर जुर्माना किया था।

देवास में शुद्धता की जांच तक नहीं

देवास के बाजार में हॉलमार्क की सील लगाकर सोना बेचा जा रहा है। लेकिन सूत्रों के अनुसार इस में भी भारी मिलावट है। भारतीय मानक ब्यूरो कभी-कभार ही सैंपलिंग करता है। अधिकतर सुनारों के यहां सोने की जांच करने की मशीन नहीं है। उपभोक्ता सिर्फ हालमार्क की सील देखकर विश्वास कर लेता है। लेकिन जब यही सोना दोबारा उसी सुनार के यहां बेचने जाता है तो उसमें मिलावट की कटौती कर ली जाती है। जबकि सोना बेचते समय सुनार पूरे पैसे वापसी की गारंटी देते हैं। इसके अलावा हॉलमार्क पर भारी मेकिंग चार्ज भी लगाया जाता है। ऐसे में ग्राहकों को डबल चार्ज का भुगतान करना पड़ता है। एक तरफ तो प्रति ग्राम मेकिंग चार्ज भी लिया जाता है और दूसरी तरफ सोने में शुद्धता की भी कमी होती है। यदि आपने चार बार पुराना सोना बेचकर नए सोने की खरीदी की तो उसकी पूरी कीमत ही समाप्त हो जाती है।

कच्चे बिल पर हो रहा है खेल
देवास में उपभोक्ता जब भी हॉलमार्क का सोना खरीदने जाएं तो साथ में पक्का बिल जरूर लें। कुछ ज्वेलर्स ग्राहकों को कच्चा बिल टिका देते हैं और उसी को आधार बनाकर सोने की वापसी की गारंटी देते हैं। ऐसे में यदि खोटा सोना टिका दिया गया तो ग्राहक के पास पक्का बिल ना होने से क्लेम करने में भी परेशानी होती है। इधर सरकारी टैक्स की चोरी कर लेते हैं।

सोने का रेट जरूर पता करें
सोना-चांदी या आभूषण खरीदने से पहले सोने का रेट जरूर पता होना चाहिए. इंडियन बुलियन ज्वेलर्स एसोसिएशन (IBJA) की वेबसाइट https://ibjarates.com/ से स्पॉट मार्केट का रेट पता करने के बाद ही बाजार में ज्वेलरी खरीदें या बेचें. IBJA की तरफ से जारी किए गए रेट देशभर में लागू होते हैं. हालांकि, वेबसाइट पर दिए रेट पर 3 फीसदी जीएसटी (GST) अलग से लगता है. सोना बेचते समय आप IBJA के रेट का हवाला दे सकते हैं.

रेट में इस तरह से ठगा जाता है

1 कैरेट सोने का मतलब होता है 1/24 फीसदी गोल्ड, अगर आपके आभूषण 22 कैरेट के हैं तो 22 को 24 से भाग देकर उसे 100 से गुणा करें। (22/24)x100= 91.66 यानी आपके आभूषण में इस्तेमाल सोने की शुद्धता 91.66 फीसदी।
टीवी पर दिखने वाला रेट 24 कैरेट सोने का होता है। मान लीजिए सोने का भाव 40000 रुपए है। बाजार में सोना खरीदने पर ध्यान रखें कि ज्वेलरी 22 कैरेट की मिलेगी। मतलब 22 कैरेट सोने का दाम (40000/24)x22=36,666.66 रुपए होगा। वहीं, ज्वेलर आपको 22 कैरेट सोना 40000 में ही देगा। मतलब आप 22 कैरेट सोना 24 कैरेट सोने के दाम पर खरीद रहे हैं।
ऐसे ही 18 कैरेट गोल्ड की कीमत भी तय होगी. (40000/24)x18= 30,000 जबकि ये ही सोना ऑफर के साथ देकर ज्वेलर ठगते हैं।

Sneha
Royal Group

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button

Adblock Detected

कृपया Adbloker बंद करें और क्रोम ब्राउजर मे ही ओपन करें