अपराधदेवास

संपत्ति कर की राशि निगम कर्मचारी ने हड़प ली तो युवक ने पिया एसिड, हुई मौत, ना पुलिस ने सुनी ना सीएम हेल्पलाइन ने



निगम कर्मचारी को संपत्ति कर जमा करने के लिए दी थी राशि, नहीं लौटाई तो उठाया घातक कदम



देवास। अमोना निवासी एक युवक ने बकाया संपत्ति कर के सेटलमेंट के लिए एक नगर निगम कर्मचारी को 1 लाख 20 हजार रुपये दिये थे। लेकिन निगम कर्मचारी ने संपत्ति कर जमा नहीं किया। जब युवक ने रुपए लौटाने की बात कही तो वह आनाकानी करने लगा। बाद में करीब 20 वापस हजार लौटा दिए, लेकिन 2 साल बाद भी बाकी रकम लौटाने को तैयार नहीं था। इस पर पीड़ित युवक पुलिस की शरण में शिकायत लेकर पहुंचा, तो थाने पर भी सुनवाई नहीं हुई। तब सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत की और जब पुलिस ने उसे थाने बुलाया तो उसने एसिड पी लिया। गंभीर हालात में युवक को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती किया। जहां से उसे इंदौर रेफर कर दिया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार औद्योगिक क्षेत्र थाना अंतर्गत अमोना में रहने वाले सुरेश पिता जगन्नाथ नायक उम्र 22 वर्ष पर संपत्ति कर के 2 लाख 50 हजार बकाया थे, इसके सेटलमेंट के लिए करीब दो वर्ष पूर्व निगम कर्मचारी विजय चौहान ने 1 लाख 20 हजार रुपये मांगें और कहा कि इसी रकम में संपत्ति कर का सेटलमेंट हो जाएगा। इस पर सुरेश ने निगम कर्मचारी विजय चौहान को 1 लाख 20 हजार संपत्ति कर जमा के लिए दे दिये, लेकिन निगम कर्मचारी विजय चौहान ने संपत्तिकर जमा नहीं किया। जब सुरेश नायक ने रुपए वापस लौटाने को कहा तो निगम कर्मचारी विजय चौहान आनाकानी करने लगा। जिसके बाद राशि वापस लौटाने को लेकर एग्रीमेंट किया और 20 हजार रुपये लौटा दिये, लेकिन 2 साल बाद भी बाकी रकम नहीं लौटाई। जिस पर सुरेश नायक औद्योगिक थाने अपनी फरियाद लेकर पहुंचा, लेकिन पुलिस ने उसकी सुनवाई नहीं की। सुरेश नायक ने सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत की तो बुधवार को औद्योगिक थाना पुलिस ने उसे बुलाया। तभी सुरेश नायक ने एसिड पी लिया। इसके बाद सुरेश को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती किया, जहां गंभीर हालत के चलते इंदौर रेफर किया। इंदौर में निजी अस्पताल में उसकी गुरुवार सुबह करीब 4 बजे मौत हो गई। इंदौर पुलिस को परिजनों ने बताया कि सुरेश नायक ने निगम कर्मचारी को संपत्ति कर जमा करने के लिए राशि दी थी, जो न तो जमा की गई और ना ही लौटाई गई, जिसके चलते उसने यह घातक कदम उठाया है।

मृत्यु पूर्व मीडिया को बताया मेरी सुनवाई नहीं हुई

इधर सुरेश नायक को जब एसिड पीने के बाद जिला अस्पताल लाया गया, जब उसने मीडिया को बताया कि उसने 1 लाख 20 हजार रुपए संपत्ति कर जमा करने के लिए निगम कर्मचारी विजय चौहान को दिए थे। उसने राशि जमा भी नहीं की और ना ही राशि लौटाई निगम कर्मचारी ने राशि लौटाने के लिए उसे चेक व एग्रीमेंट भी किया, फिर भी राशि नहीं लौटाई सुरेश नायक ने बताया कि मैंने थाने पर भी शिकायत की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

शिकायतों के बाद निगमकर्मी की सेवा कर दी थी समाप्त, प्रकरण भी दर्ज

बताया जा रहा है कि महू निवासी निगम कर्मचारी विजय चौहान पर राशि लेकर नगर निगम में जमा नहीं कराने की कई शिकायतें प्राप्त हो रही थी। विजय चौहान ने कई लोगों से संपत्ति कर व जल कर राशि के सेटलमेंट को लेकर लोगों से राशि तो ले ली, किंतु नगर निगम में जमा नहीं की। इन्हीं शिकायतों के चलते वर्ष 2022 में नगर निगम आयुक्त ने विजय चौहान को सेवाएं समाप्त कर दी थी। इतना ही नहीं राशि के गबन को लेकर एक निगम अधिकारी ने विजय चौहान के खिलाफ औद्योगिक क्षेत्र थाने में आवेदन देकर प्रकरण भी दर्ज कराया था।

युवक के एसिड पीने के मामले में जांच की जा रही है। परिजनों के बयान व इंदौर थाने से मर्ग डायरी आने के बाद आगामी कार्यवाही की जाएगी। पूर्व में इस मामले की सीएम हेल्पलाइन शिकायत हुई थी, जिसे परिजनों ने बाद में वापस ले ली थी। हम मामले की जांच कर रहे हैं।

अजय चानना टीआई, औद्योगिक क्षेत्र थाना

Sneha
san thome school
Back to top button