देवासमध्यप्रदेशराजनीति

देवास सांसद महेंद्र सिंह सोलंकी के नाम पर फर्जीवाड़ा, ट्रांसफर गिरोह ने किया लेटर हेड और सिग्नेचर का इस्तेमाल

 

देवास लाइव। मध्य प्रदेश में इस समय शासकीय सेवकों के ट्रांसफर का दौर चल रहा है। इसी दौरान फर्जीवाड़ा करने वाले भी सक्रिय हो गए हैं। इन फर्जीवाड़ा करने वालों ने देवास सांसद महेंद्र सिंह सोलंकी के लेटर हेड और सिग्नेचर की स्कैन कॉपी का भी इस्तेमाल किया। यही नहीं भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह, राजगढ़ सांसद रोडमल नागर और विधायक रामपाल सिंह के लेटर हेड का भी इस्तेमाल किया गया।

भोपाल पुलिस ने मप्र में पदस्थ शिक्षकों, स्टाफ नर्स और तहसीलदारों के ट्रांसफर करने के लिए सांसद-विधायकों के फर्जी लेटर का इस्तेमाल करने वालों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। भोपाल क्राइम ब्रांच ने इस मामले में फिलहाल अज्ञात को आरोपी बनाया है। 

ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए सीएम ऑफिस भेजे गए पत्रों में एक स्टाफ नर्स, दो तहसीलदार और 27 शिक्षकों की अनुशंसा की गई थी। इस आधार पर पुलिस ने धोखाधड़ी की धाराओं में केस दर्ज किया है। साथ ही जिनके नाम की सिफारिश की गई है, उन्हें भी अपना पक्ष रखने के लिए पुलिस नोटिस दे रही है। 

पुलिस ने माना है कि इस फर्जीवाड़े में भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, देवास सांसद महेंद्र सिंह सोलंकी, राजगढ़ सांसद रोडमल नागर और विधायक रामपाल सिंह के लेटर हेड और स्कैन हस्ताक्षर का इस्तेमाल किया गया है। सीएम हाउस ने जब इन चिट्ठियों की जांच की तो सभी की सभी फर्जी पाई गईं। जिसके इस मामले की जांच के आदेश दिए गए। यह पत्र अलग-अलग तारीखों में सीएम ऑफिस पहुंचे थे। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ओएसडी मरकंद देउस्कर ने कहा है कि इस मामले में आरोपियों के नाम सामने आने चाहिए।

Sneha
Royal Group

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button

Adblock Detected

कृपया Adbloker बंद करें और क्रोम ब्राउजर मे ही ओपन करें