देवासबागली

विडियो: नौकरानी बनकर पति को पढ़ाया, अधिकारी बनते ही हुआ बेवफा, देवास के बागली में ममता को न्याय की उम्मीद

नौकरानी बनकर पति को पढ़ाया, अधिकारी बनते ही हुआ बेवफा, देवास के बागली में ममता को न्याय की उम्मीद

देवास लाइव. जहाँ एक और  देशभर में एसडीएम की बेवफाई के आरोप का मामला सुर्खियां बटोर रहा है, लेकिन देवास जिले में एक अनूठा मामला सामने आया है. यहां अधिकारी पति पर बेवफाई का आरोप लगा है. इस बार बेवफाई के आरोप पत्नी पर नहीं बल्कि पति पर लगे हैं. सेलटैक्स ऑफिसर बनते ही पति ने दूसरी शादी कर ली. अब पीड़ित महिला न्यायालय के चक्कर काट रही है.

दरअसल, देवास जिले के बागली क्षेत्र में रहने वाली ममता बाई ने बताया कि उनके पहले पति की मौत के बाद अलीराजपुर के जोबट इलाके में रहने वाले कमरू पिता नरसिंह से उनकी पहचान हो गई. दोनों की दोस्ती प्रेम में बदल गई. ममता बाई 3 साल तक कमरू के साथ लिव इन रिलेशन में रही. इस दौरान इंदौर में कमरू पीएससी की तैयारी कर रहा था. कमरू की आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर थी. इसी के चलते ममता बाई ने लोगों के घर पर नौकरानी बनकर पैसा एकत्रित किया. इतना ही नहीं बस में कंडक्टर की भी की और कमरू को पढ़ाई करवाई.

वहीं जैसे ही कमरू का सलेक्शन पीएससी हो गया, वैसे ही उनकी नजरें बदल गई. ममता बाई के मुताबिक कमरू ने कोर्ट में उनसे लव मैरिज भी की थी लेकिन अब साथ में रखने से इंकार कर दिया है. इस मामले को लेकर उनके द्वारा बागली न्यायालय में वाद भी लगाया गया है. ममता बाई के मुताबिक कमरू को 12000 प्रति माह भरण-पोषण भत्ता देना था लेकिन अभी लंबे समय से नहीं दिया.

ममता बाई के मुताबिक जब तक कमरू सेल टैक्स विभाग में नौकरी नहीं लगी थी, तब तक उनका व्यवहार काफी अच्छा था, लेकिन जैसे ही सीटीओ के पद पर पदस्थी मिली, वैसे ही नजर बदल गई. ममता का कहना है कि कमरू की पोस्टिंग रतलाम में है. उनके बीच एक बार ही मामूली विवाद हुआ था जिसके बाद रिश्ते नाते सब टूटते चले गए.

san thome school
Sneha
Back to top button